#datachorcongress हैशटैग का सच क्या है? क्या सचमें कांग्रेस दोषी है?

आजकल ट्विटर पर ट्रेंडिंग हैशटैग है #datachorcongress। datachorcongress इस हैशटैग के पीछे की खबर यह है, की कैम्ब्रिज अनालिटिका कंपनी जिसने अमरिकी प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रंप का कैंपेन चलाकर अनैतिक तौर तरीकों से ट्रंप को जिताने के आरोप लगे हैं। ब्रिटेन स्थित इस कंपनी पर अभी ब्रिटिश कानूनों के तहत इन्वेस्टिगेशन चल रहा है।

ऐसे में भारत के इन्फॉर्मेशन एवं टेक्नोलॉजी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस के ऊपर आनेवाले चुनावों के मद्देनजर भारत में कैंपेन चलाने के लिए भारतीय नागरिकों का डाटा इस कंपनी से साझा करने का आरोप लगाया है। एवं कांग्रेस के इस कंपनी से क्या रिश्ते हैं इस बारे में सफ़ाई देने की दुहाई दी है।

जवाब में कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला ने datachorcongress इसविषय पर की अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में केम्ब्रिज अनालिटिका के वेबसाइट ca-political.com के हवाले से यह बताने की कोशिश की है कि भाजपा ने २०१० के चुनावों में ही इस कंपनी की सहायता ली थी।

#datachorcongress के मद्देनजर कांग्रेस ने अपनी सफाई देते हुए भाजपा पर केम्ब्रिज अनालिटिका से २०१०में सेवाएं लेने का प्रत्यारोप लगाया।
डाटा चोरी के रविशंकर प्रसाद के आरोपों के जवाब देते हुए कांग्रेस प्रवक्ता

यह लिंक आपको रणदीप सुरजेवाला की कॉन्फ्रेंस के वीडियो पर ले जाएगी।

इसी बीच रविशंकर प्रसाद ने फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग को भी चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर भारतीयों के डाटा का गलत इस्तेमाल होता है तो भारत के IT कायदे बहुत कडक़ है। हालांकि इन दोनों पार्टियों में से कौन सही है और कौन गलत, या दोनों सही है या दोनों गलत, यह तो आने वाला वक़्त ही बताएगा।

लेकिन यह बात तो तय है कि अगर आप सोशल मीडिया का ख़ूब इस्तेमाल करते हैं, तो आपके डाटा को कोई भी अपने तरीके से इस्तेमाल कर सकता है। एवं आप की सोच को अपने पक्ष में करने में कामयाब भी हो सकता है। क्योंकि अब चुनावों में भले ही आप अपनी मर्ज़ी से अपनी पसंद की सरकार चुनने का दावा करते हो, आपकी सोच को हो सकता है कोई अपने वास्ते बदल रहा हो यह नामुमकिन नहीं।

अब, जब कांग्रेस प्लेनरी के दौरान राहुल गांधी ने चुनावी ब्युग़ल फूंक ही दिया है। तो, यह आरोप प्रत्यारोप चारों और से लगना लगाना तय है। ऐसे में आप जैसे हर समझदार मतदाताओं को अच्छे बुरे औऱ सही गलत कि पहचान खुद करनी होगी, औऱ जिम्मेदारी से करनी होगी।

अब आपको तय करना है, की आपकी सोच आपकी अपनी हो या कोई और उस पर हावी हो। अगर आप इस बारे में कोई राय रखते हैं तो यहां जरूर शेयर करें।

Advertisements

Leave a Reply