जी लो दोस्तों, होली में जिंदगी ज़रा।

धरती का हरा, सूरज का सुनहरा

मन का गहरा, जोबन का छरहरा

दोस्तीका मदभरा, मस्तीका दमभरा

फागुनका कसभरा, जीवनका रसभरा

त्यौहार मना रहा होली का रंगभरा

हो गया है मौसम उमंगभरा

मनमें है उल्लास भरा

तनोंमें है जोश भरा

आसमां तक हवाओंमें ग़ुलाल भरा

फ़िज़ाओं में होली का हुड़दंग भरा

जी लो दोस्तों, होली में जिंदगी ज़रा

Advertisements

Leave a Reply